JINKE LIYE hindi LYRICS – NEHA KAKKAR

Jinke Liye Song Lyrics in Hindi-Neha Kakkar

Jinke Liye Song lyrics Hindi. The Song Jinke liye Song Sung by Neha Kakkar. This  song in lyrics written And This song Music Composer Jaani. The song has music produced by B Praak. The video of the Jinke Liye song is directed by Arvindr Khaira. This song Video featuring Siddhi Ahuja, Neha Kakkar and Jaani. Lets enjoy this song lyrics in hindi and English fomet.

Song Title:- jine ke liye
Album:-
jaani ve
Singers:-Neha kakkar & feat. Jaani
Music:- B Park
Lyrics:- Jaani
Year:-2020

Star Cast:-Neha kakkar
Music label:-T-Series
Song format (HINDI)

तेरे लिए मेरी इबादतें वही है

तेरे लिए मेरी इबादतें वही है

तू शरम कर तेरी आदतेंवहीहै

तू शरम करतेरी आदतें वही है


जिनके लिए हमरोते हैं

हो जिनके लिए हम रोते हैं..

वो किसी और की बाहों में सोते हैं

जिनके लिए हम रोते हैं..

वो किसी और की बाहों में सोते हैं..

हम गलियों में भटकते फिरते हैं

वो समंदर किनारों पे होते हैं..

जिनके लिए हम रोते हैं

वो किसी और की बाहों में सोते हैं..

पागल हो जाओगे आना कभी ना

गलियों में उनकी जाना कभी ना

जाना कभी ना

हम जिंदा गए करीब उनके

अब देखो मरे हुए लौटे हैं

जिनके लिए हम रोते हैं

वो किसी और की बाहों में सोते हैं..

रा रा रारा…


हाथों से खेलते होंगे या पैरों से

फुर्सत कहाँ अब उनको है गैरों से

हाथों से खेलते होंगे या पैरों से

फुर्सत कहाँ अब उनको है गैरों से

उनकी मोहब्बतें हर जगह

वो जो कहते थे हम इकलौते हैं

जिनके लिए हम रोते हैं

वो किसी और की बाहों में सोते हैं

कभी यहाँ बात करते हो

कभी वहाँ बात करते हो

आप बड़े लोग हो साहब

हमसे कहाँ बात करते हो

आज उस शख्स का नाम बताएँगे

जानी था जानी मिले जिस कायर से

गलती थी छोटी मोहब्बत करी जो

गलती बड़ी थी की कर बैठे शायर से

आग का दरिया जफां उनकी

हर दिन लगाने गोते हैं

जिनके लिए हम रोते हैं

किसी और की बाहों में सोते हैं

जिनके लिए हम रोते हैं

किसी और की बाहों में सोते हैं

आ…


हो जिनके लिए हम रोते हैं

किसी और की बाहों में सोते हैं..

जिनके लिए हम रोते हैं

किसी और की बाहों में सोते हैं..


PDF DOWNLOAD




Song format (ENGLISH)

Tere liye meri ibaadatein wohi hai
Tere liye meri ibaadatein wohi hai
Tu sharam kar teri aadatein wohi hai
Tu sharam kar teri aadatein wohi hai

Jinke liye hum rote hai
Ho jinke liye hum rote hai
Woh kisi aur ki baahon mein sote hai

Jinke liye hum rote hai
Woh kisi aur ki baahon mein sote hai
Hum galiyon mein bhatakte phirte hai
Woh samandar kinaaron pe hote hai

Jinke liye hum rote hain
Woh kisi aur ki baahon mein sote hai

Paagal ho jaoge aana kabhi na
Galiyon mein unki jaana kabhi na
Jaana kabhi na
Hum zinda gaye kareeb unke
Ab dekho mare huye laute hain

Jinke liye hum rote hain
Woh kisi aur ki baahon mein sote hain

Hathon se khelte honge ya pairon se
Fursat kahan ab unko hai ghairon se
Hathon se khelte honge ya pairon se
Fursat kahan ab unko hai ghairon se
Unki mohabbatein har jagah
Woh jo kehte the hum iklaute hain

Jinke liye hum rote hain
Woh kisi aur ki baahon mein sote hain

Kabhi yahan baat karte ho
Kabhi wahan baat karte ho
Aap bade log ho saahab
Humse kahan baat karte ho

Aaj us shakhs ka naam batayenge
Jaani tha Jaani mile jis kaayar se
Ghalti thi chhoti mohabbat kari jo
Ghalti badi thi ke kar baithe shayar se

Aag ka dariya zafa unki
Har din lagane gote hai

Jinke liye hum rote hai
Kisi aur ki baahon mein sote hai
Jinke liye hum rote hain
Kisi aur ki baahon mein sote hai

Ho jinke liye hum rote hai
Kisi aur ki baahon mein sote hai
Jinke liye hum rote hai
Kisi aur ki baahon mein sote hai


PDF DOWNLOAD










Leave a Comment